समर्थक

बनारसी साड़ियाँ खरींदे केवल यहाँ पर ~

मंगलवार, 4 फ़रवरी 2014

अगर गौरैया गायब हुई तो हम भी नही बचेंगे ..!!

नमस्कार मित्रो ,
सबसे पहले हर्षवर्धन जी को मेरा शुक्रिया इस ब्लॉग में लेखक के रूप में शामिल करने के लिए . हर्षवर्धन जी की गोरैया के लिए ब्लॉग बनाकर चलाई गयी मुहिम स्वागत योग्य है . मैंने इससे पहले अपने ब्लॉग
 मुकेश पाण्डेय चन्दन में पक्षी श्रृंखला    
में भी गौरैया सहित कई भारतीय पक्षियों के बारे में लिखा है . आप ऊपर दी गयी लिंक में पढ़ सकते है .
भारतीय पारिस्थितिकी के लिए गौरैया बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी है . 
दोस्तों , पहले हमारे हर घर घर में आसानी से फुदकती गौरैया अब मुश्किल से दिखती है । गौरैया का गायब होना एक साथ बहुत से प्रश्न खड़े करता है ।
जैसे - क्यो गौरैया ख़त्म हो रही है ?
आज हम मनुष्यो पर निर्भर इस चिडिया के आवास क्यो ख़त्म हो गए है ?
गौरैया अगर ख़त्म हो गई तो समझो हम बहुत बड़े धर्म संकट में पड़ जायेंगे ! क्योंकि हमारे धर्म गर्न्ठो के अनुसार पीपल और बरगद जैसे पेड़ देवता तुल्य है। हमारे पर्यावरण में भी इनकी महत्वपूर्ण भूमिका है । पीपल और बरगद ऐसे वृक्ष  है जो कभी सीधे अपने बीजो से नही लगते , इनके बीजो को जब गौरैया खाती है और बीज जब तक उसके पाचन तंत्र से होकर नही गुजरते तब तक उनका अंकुरण नही होता है । इसीलिए अपने देखा होगा की ये ब्रक्ष अधिकांशतः मंदिरों और खंडहरों के नजदीक अधिक उगते है , क्योंकि इनके आस-पास गौरैया का जमावडा होता है । मेरी ये बात निराधार नही है । मोरिशस और मेडागास्कर में पाया जाने वाला एक पेड़ सी० मेजर लुप्त होने कगार पर है , क्योंकि उसे खाकर अपने पाचन तंत्र से गुजरने वाला पक्षी दोदो अब विलुप्त हो चुका है यही हाल हमारे यंहा गौरैया और पीपल का हो सकता है । अगर हम न चेते तो ........? अतः आप सभी से निवेदन है की आप स्वयं और अपने जन पहचान के लोगो को इस बारे में बताये और हमारी संस्कृति और पर्यावरण को एक संकट से बचने में सहयोग करे । मुझे आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार रहेगा ।

आपका अपना- मुकेश पाण्डेय "चंदन"

 

12 टिप्‍पणियां:

  1. एक कविता मैंने भी लिखी है ......... गोरैया पर :)
    बहुत सुंदर आलेख !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया लेखन सर जी और ये तो हमारी ख़ुशनसीबी है जो इस सार्थक कार्य के लिए आप हमसे जोड़े :-)
    सादर धन्यवाद।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर और चिंतनीय आलेख.....मे भी पर्यावरण और प्रकृति से कुछ ज्यादह ही जुडी हुई हूँ ,और ये मानती हूँ की " ये हैं तो हम हैं "

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद आवश्यक चेतना परक लेख !! बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. चिंतनीय विषय..जनचेतना को झंंकृत करने वाली बात...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बात बेहद गंभीर है....पर सवाल ये है कि क्या किया जाए। मोबाइल हम छोड़ नहीं सकते...तो क्या प्रकृति गौरेया की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएगी? ये हमें पता नहीं। इसलिए बेहतर है कि हम कोई साकार कोशिश करें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर आलेख.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच कहा गौरिया नहीं बची तो हम भी नहीं बचेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  9. रोचक किंतु गम्भीर आलेख के लिये बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणी के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद।
गौरेया के लेख पसंद आने पर कृपया गौरेया के समर्थक (Follower) बने। धन्यवाद।

लोकप्रिय लेख