समर्थक

मंगलवार, 29 जनवरी 2013

एक जानकारी गौरेया के बारे में।

गौरेया पासेराडेई परिवार की सदस्य है, लेकिन कुछ लोग इसे वीवर फिंच परिवार की सदस्य मानते हैं। इनकी लम्बाई 14 से 16 सेंटीमीटर होती है तथा इनका वजन 25 से 32 ग्राम तक होता है। एक समय में इसके कम से कम तीन बच्चे होते है। गौरेया अधिकतर झुंड में ही रहती है। भोजन तलाशने के लिए गौरेया का एक झुंड अधिकतर दो मील की दूरी तय करते हैं। यह पक्षी कूड़े में भी अपना भोजन ढूंढ़ लेते है।


गौरेया आज संकटग्रस्त पक्षी है जो पूरे विश्व में तेज़ी से दुर्लभ हो रही है। दस-बीस साल पहले तक गौरेया के झुंड सार्वजनिक स्थलों पर भी देखे जा सकते थे। लेकिन खुद को परिस्थितियों के अनुकूल बना लेने वाली यह चिड़िया अब भारत ही नहीं, यूरोप के कई बड़े हिस्सों में भी काफी कम रह गई है। ब्रिटेन, इटली, फ्रांस, जर्मनी और चेक गणराज्य जैसे देशों में इनकी संख्या जहाँ तेज़ी से गिर रही है, तो नीदरलैंड में तो इन्हें "दुर्लभ प्रजाति" के वर्ग में रखा गया है।

23 टिप्‍पणियां:

  1. बीटिंग द रिट्रीट ऑन ब्लॉग बुलेटिन आज दिल्ली के विजय चौक पर हुये 'बीटिंग द रिट्रीट' के साथ ही इस साल के गणतंत्र दिवस समारोह का समापन हो गया ! आज की 'बीटिंग द रिट्रीट' ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. गौरैया ब्लाग में संकटग्रस्त और पक्षी भी ले सकते हैं -यह पक्षी संरक्षण की प्रतीक बन सकती है!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी बात सहमत हूँ। धन्यवाद अरविंद सर।

      हटाएं
    2. avashya gauraiya ko sankat grast ki sreni main dalden..

      हटाएं
  3. गौरैया को बचाना हम सबकी जिम्मेदारी है..... अच्छी जानकारी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. गौरैया को बचाना हम सभी का फर्ज और हम सबकी जिम्मेदारी है..... हर्षवर्धन जी ......अच्छी जानकारी

      @ संजय भास्कर

      हटाएं
  4. आपकी चिंता सही है, घर आंगन में फ़ुदकने वाली गौरैया अब लुप्तप्राय हो चली है. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. "आंगन का पंक्षी" निबंध विद्यानिवास मिश्र जी ने लिखा था, गावोँ मेँ खूब पाया जाने वाला यह पंक्षी अब तो लुप्यप्राय हो रहा है।
    .......
    पक्षियोँ पर मेरी यह लघुकथा पढेँ....
    http://yuvaam.blogspot.com/2013_01_01_archive.html?m=0

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहा आपने इस इतने बड़े देश की राजधानी हो कर भी हम इस गौरैया को बचाने में नाकाम साबित हो रहे है हमें फिर से एक जुट हो कर ये महत्वपूर्ण कार्य करना होगा
    मेरी नई रचना
    प्रेमविरह
    एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. पक्षी प्रेम को समर्पित बढ़िया पोस्ट अब घरों में नहीं मिलती गौरैया .टूट गया पर्यावरण .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबेरे सबेरे चहचहाती गौरया सभी को आल्हादित कर देती है. इस चहचाहट को बरकार रखना होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सबका बहुत - बहुत धन्यवाद। :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक बार टीवी पे देखा था कि एक दिल्ली के सज्जन ने अपने घर मेँ काफी गौरेया पाल रखी है।
    अगर ऐसी जानकारी देँ,कि गौरेया को किन-किन माध्यमोँ से बचाया जा सकता है तो ज्यादा अच्छा रहेगा।
    www.yuvaam.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. गौरैया को बचाने के लिए हम सभी को आगे आना चाहिये
    बस इतना करना है कि-हम सभी अपने घर की छत पर लकड़ी का घर या हरे नारियल को थोड़ा काट कर छत पर लटका के नन्ही गोरैया के लिए घर तथा थोड़ा अनाज पानी की व्यवस्था करके इसे बचाया जा सकता है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. Iske liye hm sabhi ko kadam badhana h..goraiya sirf ek chidiya hi nhi hamari shaan h.. isko bachana hm sbka farj hai.. agar har ek ghar me do ghosle bhi rakhe jaye to goraiya chidiya ki sankhya bhut jald badh jayegi ��

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणी के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद।
गौरेया के लेख पसंद आने पर कृपया गौरेया के समर्थक (Follower) बने। धन्यवाद।

लोकप्रिय लेख